अमीबा

ये एक कोशिकीय जीव है। अमीबा एककोशीय जंतु होने के कारण इसमें उत्सर्जी अंग नहीं पाए जाते हैं। अपशिष्ट पदार्थों का निष्कासन विसरण द्वारा होता है। अमीबा के शरीर में संकुचनशील रसधानियां पाई जाती है। जिनके द्वारा अपशिष्ट पदार्थों को शरीर से बाहर त्याग दिया जाता है।