परमाणु का थॅामसन मॅाडल

परमाणु के थॅामसन मॅाडल के अनुसार परमाणु 10-10 त्रिज्या का एक गोला है जिसमें धन आवेश एक समान रुप से वितरित रहते है तथा ऋण आवेशित इलेक्ट्रॅान धनावेश को संतुलित करने के लिये ठीक उसी प्रकार अंत:स्थापित रहते है जैसे किसी तरबूज़ में उसके बीज अंत:स्थापित रहते है । इस मॅाडल को प्लम पुडिंग मॅाडल कहते है।

थॅामसन मॅाडल की कमियां

1. परमाणु के थॅामसन मॅाडल के अनुसार हाइड्रोजन के स्पेक्ट्रम में केवल एक ही रेखा प्राप्त होनी चाहिए। जबकि प्रयोगों में यह देखा गया कि हाइड्रोजन स्पेक्ट्रम में स्पेक्ट्रमी रेखाओं की कई श्रेणियां होती है।

2. रदरफोर्ड एल्फा प्रकीर्णन प्रयोगों के प्रायोगिक प्रेक्षणों का इस मॅाडल द्वारा स्पष्टीकरण संभव नहीं हो पाया।

3. यह मॅाडल परमाणु के स्थायित्व को समझाने में भी असफल रहा।