परमाणु

महर्षि कणाद ने अपने ग्रंथ वैशेषिक सूत्र में परमाणु सिद्धांत का प्रतिपादन किया। तत्पश्चात जॉन डाल्टन ने परमाणु की आधुनिक धारणा दी। प्रत्येक पदार्थ परमाणु से मिलकर बनता है तथा परमाणु पदार्थ की मूलभूत इकाई है। परमाणु किसी पदार्थ का वह सूक्ष्मतम कण है जो अधिकांशतः स्वतंत्र अवस्था में नहीं रह सकता है तथा जिसमें पदार्थ के गुण मौजूद रहते है। ग्रीक दार्शनिक डेमोक्रिटस ने पदार्थ के सूक्ष्म अविभाजित कण को परमाणु कहा।
परमाणु में मुख्य रूप से तीन कण होते है – इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन तथा न्यूट्रॉन।