भूमध्य रेखा (विषुवत्त रेखा)

ग्लोब ( glob ) के बीचों-बीच में खींची गई 0 अक्षांश रेखा को भूमध्य रेखा ( equator line ) कहा जाता है। इसे विषुवत्त रेखा भी कहते है।

भूमध्य रेखा ( equator line ) पर साल भर दिन रात बराबर होते है इसलिए इसे विषुवत्त रेखा कहते है। यह रेखा पूर्ण ग्लोब ( glob ) पर वृताकार होती है, इसलिए इसे विषुवत्त रेखीय वृत्त या भूमध्य रेखीय वृत्त कहते है। विषुवत्त रेखीय वृत्त पृथ्वी पर खींचा जाने वाला सबसे बड़ा वृत्त हैं।
भूमध्य रेखा ( equator line ) दक्षिण अमेरिका महाद्वीप के इक्वाड़ोर देश के स्थलीय भाग में प्रवेश करती है । यह रेखा दक्षिण अमेरिका,अफ्रीका तथा आस्ट्रलिया से भी निकलती है। यह अफ्रीका महाद्वीप के मध्य से निकलती है। भूमध्य रेखा के 23½ उत्तर मे कर्क रेखा तथा 23½ दक्षिण मे मकर रेखा स्थित हैं ।

भूमध्य रेखा ( equator line ) के 10 उत्तर तथा 10 दक्षिण का भाग उष्ण कटिबंधीय क्षेत्र है तथा यहाँ जलवायु वर्ष भर समान, गर्म तथा आर्द्र होता है तथा यहाँ उच्च तापमान (high temperature ) रहता है तथा वर्षा अधिक होती है इस कारण यहाँ उष्ण कटिबंधीय सदाबहार घने वन पाये जाते हैं।

कौन सी नदी भूमध्य रेखा को दो बार काटती है?

नील नदी (कांगो नदी) विषुवत्त रेखा को दो बार काटती है।